किसान संबल योजना बंद करने की तैयारी

0
904

सहकारिता विभाग ने सभी सहकारी बैंकों को चि_ी लिखकर जताई मंशा
जोधपुर। प्रदेश के किसानों को सहकारी बैंकों के माध्यम से लम्बी अवधि के कर्ज देने वाली किसान सम्बल योजना को बंद करने की तैयारी है। राज्य सरकार ने इस योजना को दो सालों में फेजवार बंद करने का फैसला कर लिया है। इसके तहत पहले चरण में सम्बल योजना में मार्च तक किसानों को दस लाख से ऊपर कर्ज नहीं दिया जाएगा। दस लाख रुपए से ऊपर साख सीमा मंजूर है तो उसे घटाकर दस लाख के भीतर किया जाएगा। दूसरे चरण में मार्च 2018 तक सम्बल योजना को पूरी तरह बंद कर पहले मंजूर साख सीमा को किसान कल्याण सहकार योजना में मर्ज किया जाएगा। सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद सहकारिता विभाग ने सभी सहकारी बैंकों को चि_ी भेजकर किसान सम्बल योजना को मार्च 2018 तक दो चरणों में बंद करने का आदेश दिया है। यह बात अलग है कि किसान सम्बल योजना को सहकार किसान कल्याण योजना में मर्ज किया जाएगा, लेकिन इन दो सालों में साख सीमा कम होने और कागजी खानापूर्ति के चक्कर में किसाना को थोड़ी-बहुत परेशानी उठानी पड़ेगी। अब किसानों को लम्बी अवधि के बड़े कर्ज मिलने में परेशानी आना तय माना जा रहा है। नोटबंदी के बाद इस योजना को बंद करने का फैसला किसानों पर मार के रूप में देखा जा रहा है। जबकि सहकारिता विभाग इसे एक योजना का दूसरी में मर्जर के रूप में देख रहा है।

LEAVE A REPLY