सर्द हवाओं ने बढ़ाई ठिठुरन, आज से पांचवीं तक के बच्चे दस बजे जाएंगे स्कूल

0
1248

परिक्रमा रिपोर्टर
जोधपुर। पहाड़ी इलाकों में हो रही बर्फबारी की वजह से पिछले दो दिन से मारवाड़ में सर्द हवाओं ने ठिठुरन बढ़ा दी है। वही शीतकालीन अवकाश खत्म होने के पहले दिन असहीनय सर्दी की वजह स्कूली बच्चे कंपकपाते स्कूल पहुंचे। सर्द हवाओं की वजह से तापमान गिरकर दस डिग्री सेल्यिस रिकार्ड किया गया। इस वजह सुबह से ही जनजीवन अस्तव्यस्त रहा लेकिन प्रशासन का मानना है कि तापमान आठ डिग्री सेल्सियस होने पर स्कूलों में छुट्टी की जा सकती। इस वजह से सुबह छुट्टी को लेकर असंमजता बरकरार रही और पशासन आज दोपहर तक स्कूल की छुट्टी करने का कोई मानस नजर नहीं आए। जबकि पहले ही स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति कम रही और अभिभावक कलेक्टर से गुहार करते नजर आए कि ऐसे तो बच्चे बीमार पड़ जाएंगे। बरहाल जिला प्रभारी की बैठक की वजह से कलेक्टर वहां बिजी रहे और अवकाश के बारे में स्पष्ट नहीं हो सका। देर शाम जिला प्रशासन ने पांचवीं कक्षा तक के बच्चों का स्कूल समय सुबह दस बजे से करने के आदेश जारी किए। सुबह घना कोहरे के साथ सर्द हवाएं चलने की वजह से घर से बहार निकलना मुश्किल हो रहा था । जबकि स्कूलों के खुल जाने के कारण पहली पारी में स्कूल जाने वाले बच्चों को परेशाानी का सामना करना पड़ा। गर्म कपड़ें पहने होने के बावजूद बच्चे ठिठुरते नजर आए। कई स्कूलों में आज बच्चों की उपस्थिति भी कम दिखाई दी। हालाकि राज्य सरकार की ओर शीतकालीन अवकाश बढ़ाने के निर्देश के बावजूद जिला कलेक्टर की ओर से छुट्टियों के संबंध में आज शिक्षा विभाग के अधिकारियों की रिपोर्ट के बाद ही कोई निर्णय लेंगे। जिसके चलते आज सरकारी और प्राईवेट स्कूलों में न तो समय परिवर्तन हुआ और नहीं छुट्टियों की घोषणा की जा सकी। आज सुबह सर्द हवाओं और कपकंपाती सर्दी के बावजूद स्कूली बच्चों को तैयार होकर स्कूल पहुंचना पड़ा। पिछले तीन दिनों तक शहर के लोगों की दिनचर्या ठंड के कारण प्रभावित हो रही है। इस वजह से कलेक्टर के स्कूलों का अवकाश बढ़ाने की उम्मीद पाले थे। लेकिन शायद जोधपुर कलेक्टर को अत्याधिक सर्दी का एहसास नहीं हुआ। इस वजह से सुबह की पारी वाले स्कूलों के मासूम बच्चों को ठिठुरतें हुए स्कूल जाने के मजबूर होना पड़ा है। गौरतलब है कि शहर के ग्रामीण क्षेत्रों में कुछ स्थानों पर बूंदाबांदी हुई।
आवागमन प्रभावित: सर्दहवाओं और कोहरे की वजह से सुबह आवागमन प्रभावित हुआ। दुपहिया वाहन चालकों को भी शीत लहर के कारण परेशानी का सामना करना पड़ा। लोग गर्म पकोड़े और चाय की चुस्कियां लेते रहे ताकि ठंड का असर कुछ कम रहे। नमकीन की दुकानों पर भी गर्म नमकीन का आनंद लेते हुए जोधपुरवासियों को देखा गया।
हवाई व रेल मार्ग प्रभावित: जोधपुर और बाड़मेर में हल्का कोहरा छाने से हवाई सेवा के साथ रेल और सडक़ यातायात प्रभावित रहा। बीकानेर संभाग सहित पूर क्षेत्र में बूंदाबांदी होने के समाचार है। जोधपुर के ग्रामीण इलाकों में बूंदाबांदी होने के समाचार है। किसानों के अनुसार कोहरा और बूंदाबांदी फसलों क लिये अमृत का काम कर रहे है।
पश्चिमी विक्षोम के गुजरते ही हवाओं ने रूख बदल दिया है और शहर में सर्द मौसम हो गया है। जोधपुर में पारा गिरने के साथ ही लोगों को दिन में भी रूम हिटर और सिगड़ी का सहारा सर्दी भगाने के लिये लेना पड़ रहा है। अलाव जलाकर या गुनगुनी धूप में लोग धूजणी मिटाते हुए देखे जा सकते है। सर्द हवाओं के चलते शहर के तापमान में भी काफी गिरावट आयी है। शहरवासी गर्म कपड़ों से लदे नजर आ रहे है।

स्कूलों में अवकाश आठ डिग्री सेल्सियम तापमान होने पर किया जाता है जबकि जोधपुर में मौसम विभाग के वजह से इतना तापमान नहीं है।
दुर्गेश बिस्सा एडीएम
कल जोधपुर में इस साल की सबसे अत्याधिक सर्दी पडऩे के साथ शीतलहर चल रही है। ऐसे में सुबह बच्चों को स्कूल जाना किसी सजा से कम नहीं है। यदि इतनी सर्दी में बच्चे स्कूल जाएंगे तो वे बीमार पड़ जाएंगे
भावना ओझा, शास्त्री नगर जोधपुर

LEAVE A REPLY