उर्स की तैयारियां : पहली बार इन हाईटेक उपकरणों से होंगे सुरक्षा इंतजाम

0
291

अजमेर। सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के 805वें उर्स में इस बार प्रशासन बेहतरीन इंतजामों की तैयारी में जुटा हुआ है। यह पहली बार होगा जब स्थानीय प्रशासन ने सुरक्षा के खास इंतजाम किए हैं। साथ ही जायरीन की सुविधा के लिए इस बार कुछ नए प्रयोग किए गए हैं।
ख्वाजा गरीब नवाज का 805वां सालाना उर्स इस बार इंतजामों के लिहाज से कुछ खास रहने वाला है। स्थानीय प्रशासन द्वारा उर्स के मद्देनजर किए जा रहे इंतजामों को देखते हुए लग रहा है कि प्रशासन का पूरा ध्यान उर्स में आने वाले जायरीन की सुविधा और सुरक्षा पर केंद्रित है। यही वजह है कि हर स्तर पर बैठकें कर इंतजामों की समीक्षा की जा रही है। एक बार फिर मंगलवार को पूरा प्रशासनिक अमला एक साथ बैठा। सम्भागीय आयुक्त हनुमान सहाय मीणा ने उर्स के मद्देनजर अभी तक हुई तैयारियों की समीक्षा की। उर्स के दौरान बात यदि दरगाह और आसपास के इलाके की बात की जाए तो कुछ पाबंदियों को लागू करने का निर्णय लिया गया है। तय किया गया है कि दरगाह के अंदर इस बार कांच की बोतलों में इत्र नहीं बेचा जा सकेगा। दरगाह में आने वाले जायरीन द्वारा निकाले जाने वाले चादर के जुलूस पर भी पाबंदी रहेगी। इस तरह के जुलूस गाजे-बाजे के साथ देहली गेट तक ही ले जाए जा सकेंगे। साथ ही वाहनों की पार्किंग पहली बार विश्राम स्थली के बाहर करवाए जाने का निर्णय लिया गया है। स्थानीय प्रशासन द्वारा जायरीन की आस्थाओं से जुड़े आनासागर रामप्रसाद घाट पर भी सुरक्षा के इंतजाम की योजना बनाई गई है।
प्रशासन ने खरीदे ड्रोन
उर्स के मद्देनजर बात यदि सुरक्षा इंतजामों की की जाए तो यह पहली बार होगा जब प्रशासन सुरक्षा के अभूतपूर्व इंतजामों की योजना बना रहा है। दरगाह के चप्पे-चप्पे के साथ ही प्रशासन की नजर इस बार पूरे मेला क्षेत्र पर रहेगी। यह पहली बार होगा जब दरगाह इलाके पर उर्स के दौरान नजर रखने के लिए प्रशासन ने सात लाख रुपए के दो ड्रोन खरीदे हैं। इसी के साथ दरगाह इलाके में सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से भी नजर रखी जाएगी। कायड विश्राम स्थली पर भी जायरीन की सुरक्षा के लिहाज से पहली बार मेटल डिटेक्टर लगाए जाने का निर्णय लिया गया है। साथ ही यह भी सुनिश्चित करने की कोशिश की जा रही है कि है पुलिस अधिकारी को वायरलेस सैट उपलब्ध करवाया जाएगा। इस बार लगभग पांच हजार पुलिस जवान और अधिकारियों को उर्स के दौरान लगाए जाने की योजना है।

LEAVE A REPLY