शादी के कार्डों पर वर-वधु की आयु नहीं लिख रहे प्रिंटिंग प्रेस वाले

0
918

प्रशासन को ही नियम की जानकारी नहीं
परिक्रमा रिपोर्टर
जोधपुर।
शादी के निमंत्रण पत्रों में वर-वधु की आयु लिखने के निर्देश की प्रिंटिंग प्रेस वाले खुले आम धज्जियां उड़ा रहे हैं। जबकि प्रशासन द्वारा सख्त निर्देश दिए है कि शादी के निमंत्रण पत्रों पर आयु लिखे बिना प्रिंटिंग नहीं कर सकते है। वहीं इस माह में 17अप्रैल से विवाह के कार्यक्रम शुरू हो जाएंगे। इसके बाद अक्षय तृतीया पर तो अबूझ सावों में चोरी-छुपके बाल विवाह होते है। जिसके कारण इन दिनों शहर के प्रिंटिंग प्रेस पर विवाह के निमंत्रण पत्र छपवाने वालों की धूम मची हुई है। लेकिन दूसरी और बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीतियों को रोकथाम के लिए शादी कार्ड पर वर-वधुओं की आयु छापने के सरकारी आदेश की खुले आम धज्जियां उड़ाई जा रही है। वहीं प्रशासन भी बाल विवाह की रोकथाम के प्रति सजग नजर नहीं आ रहा है। ऐसा भी नहीं है कि प्रशासन के अधिकारियों को इन नियमों की अवहेलना किए जाने की सूचना नही है। वहीं ऐसे कार्ड प्रशासनिक अधिकारियों के घरों तक भी पहुंच रहे है। इसके बाद भी इस विषय को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है। शहर के प्रिंटिंग प्रेस वाले आयु छापना तो दूर आयु पूछना तक उचित नहीं समझते है। जबकि सरकारी आदेश में निर्देश है कि प्रिंटिंग प्रेस का संचालन करने वाले शादी के कार्ड पर वर-वधु की आयु छापने के लिए अभिभावकों से आयु प्रमाण पत्र मांगना अनिवार्य किया गया है। आयु प्रमाण पत्र नहीं होने पर विवाह कार्ड छाप नहीं सकते है। लेकिन देखा जाए तो सरकारी आदेश केवल कागजी कार्यवाही तक ही लागू होते है। बाल विवाह के सूचना पर पकड़े जाने वाले हलवाई से लेकर पंडित, टेंट, विवाह स्थल के मालिक, बंैड बजाने वाले सहित अन्य को सजा का प्रावधान है। इसके साथ ही जुर्माना वसूलना भी इसमे शामिल है। आंगनाबाड़ी कार्यकर्ताओं, एएनएम, पटवारी, ग्रामसेवक, शिक्षक सहित अन्य विभागों के कर्मचारियों व अधिकारियों को बालविवाह होने पर सूचना नजदीकी पुलिस थानों में या बालविवाह के कंट्रोल रूम में देने के लिए पाबंद किया है।

इनका कहना है
मेरी जानकारी में ऐसा कोई नियम नहीं है। केवल आयु प्रमाण की प्रतिलिपि उपलब्ध करना ही अनिवार्य है। कार्ड पर छापना नहीं।
-मानाराम पटेल, एडीएम

LEAVE A REPLY