जापानी ग्रुप सॉफ्टबैंक को भारत में घाटा, स्नैपडील में 6 हजार करोड़ से ज्यादा के निवेश को बट्टे खाते में डाला

0
105

भारत में जहां ई-कॉमर्स सेक्टर काफी तेजी से बढ़ने वाला सेक्टर माना जाता है वहीं दूसरी तरफ एक विदेशी कंपनी को इसमें निवेश के काफी घाटा उठाना पड़ा है। जापानी इन्वेस्टर सॉफ्टबैंक ग्रुप को भारत में निवेश से घाटा हुआ है। बुधवार को कंपनी ने स्नैपडील में अपने निवेश का एक बड़ा हिस्सा बट्टे खाते में डाल दिया है। सॉफ्टबैंक ने कहा कि 31 मार्च 2017 को समाप्त वित्त वर्ष में उसे स्नैपडील में निवेश मूल्यांकन में करीब 1 अरब डॉलर का घाट हुआ है। कंपनी के मुताबिक नुकसान स्टारफिश आईपीटीई लिमिटेड समेत कई सहायक इकाइयों के निवेश पर हुआ है। इसके अलावा ग्रुप को ऑनलाइन कैब सर्विस मुहैया कराने वाली ओला में निवेश पर भी घाटा उठाना पड़ा है। कंपनी ने 40 करोड़ डॉलर के निवेश मुल्य को बट्टे खाते में डाला है। दोनों निवेश में होने वाली घाटे की रकम को जोड़ दें तो सॉफ्टबैंक को लगभग 9000 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। सॉफ्टबैंक ने कहा कि “भारत में ई-कॉमर्स सेक्टर में बढ़ते मुकाबले के चलते उसे घाटा उठाना पड़ा है। स्नैपडील का प्रदर्शन पुराने अनुमानों के मुकाबले काफी कम रहा।” 31 मार्च 2016 वित्त वर्ष के आंकड़ों के मुताबिक स्नैपडील को 2,960 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। स्नैपडील को भारत में फिल्पकार्ट और एमेजॉन का कड़ा प्रतिद्वंदी माना जाता था लेकिन अब स्थिति बदल गई है। कंपनी पिछड़कर तीसरे नंबर पर आ गई है। वहीं अगस्त 2013 से लेकर अभी तक सॉफ्टबैंक लगभग 90 करोड़ डॉलर का निवेश स्नैपडील में कर चुका है। कंपनी ने 9000 करोड़ के इस घाटे की जानकारी बीते बुधवार (10 मई) अपनी सालाना रिपोर्ट में दी।

LEAVE A REPLY