सबसे आसान और फायदेमंद एक्सरसाइज है पुशअप्स

0
101

मांसपेशियों को मजबूत करने और स्टैमिना बढ़ाने के लिए ज़रूरी है कि आप रोजाना वर्कआउट करें। खासतौर पर ऐसा माना जाता है कि पुशअप्स करने से बहुत जल्दी स्टैमिना बढ़ जाती है।
यही कारण है कि युवा लडक़े वर्कआउट की शुरुआत में सबसे ज्यादा ध्यान पुशअप्स पर ही लगाते हैं। अगर आप पुशअप्स के साथ साथ रोजाना बाकी वर्कआउट पर भी ध्यान दे रहे हैं तो जान लें कि इसका असर कुछ ही दिनों में आपके शरीर पर नजऱ आने लगेगा।
बॉडी बिल्डिंग के लिए सबसे ज़रूरी है मसल्स का बनना और उनका मजबूत होना। पुशअप्स करते समय आपकी बाहों, कंधों और सीने की मांसपेशियों का खिंचाव होता है जिससे उनमें मजबूती आती है। इसे करने से बाकी अंगों की एक्सरसाइज भी अपने आप ही हो जाती है। आपने कई लोगों से यह सुना होगा कि रोजाना पुशअप्स नहीं करने चाहिये या ज्यादा देर तक पुशअप्स करने से शरीर पर उल्टा प्रभाव पड़ता है। यह बात सरासर गलत है क्योंकि अगर आपने कभी आर्मी वर्कआउट पर ध्यान दिया हो तो वे अपने बूट कैंप में रोजाना कई तरह के पुशअप्स करते दिख जायेंगे और उनका शरीर भी उसी के अनुरूप पूरी तरह फिट रहता है।

पुशअप्स की कोई लिमिट नहीं है आपकी जितनी क्षमता है और जितनी स्टेमिना है आप उसके हिसाब से कर सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि एक युवा को लगभग 39 पुशअप्स कर लेने चाहिये वहीँ अगर इसी उम्र के लडक़े की फिटनेस और स्टेमिना बहुत अच्छी है तो वो 54 पुशअप्स भी कर सकता है। इसी तरह 50 साल के पुरुष जो हेल्दी हों वे लगभग 21 पुशअप्स कर सकते हैं।
इसी तरह अगर महिलाओं की बात की जाए तो अधिकतर लोग सोच रहे होंगे कि महिलायें इतना पुशअप्स नहीं कर सकती हैं। आपको बता दें कि मिशेल ओबामा ने बिना ब्रेक के 25 पुशअप्स किये थे और एलेन डीजेनेरस को हरा दिया था। इसलिए अगर आपकी उम्र 25 साल है तो आप भी अपनी क्षमता के अनुसार पुशअप्स लगा सकती हैं। यह सच है कि अगर आपको बॉडी बनानी है तो रोजाना पुशअप्स करने ही होंगे। एक्सपर्ट बताते हैं कि आप उतने ही पुशअप्स करें जितना आपके हाथ बर्दाश्त कर सकें। शुरू में कम पुशअप्स करें और उसके बाद धीरे-धीरे संख्या बढ़ाते जायें।

LEAVE A REPLY