ज्यादा वजन वाले दंपत्ति को देर से मिलता है संतान सुख

0
92

एक नए शोध में सामने आया है कि अधिक वजन वाले कपल को बच्चा पैदा करने में ज्यादा समय लगता है. पिछले अध्ययनों में महिलाओं में गर्भवती होने में आने वाली कठिनाइयों को मोटापे से जोड़ा गया है. वर्तमान अध्ययन में पाया गया है कि जब दोनों साथी मोटे होते हैं, तो गैर-मोटापे समकक्षों की अपेक्षा गर्भ धारण करने के लिए दंपति 59 प्रतिशत अधिक समय लेता है। अध्ययन की लेखक युनेस केनेडी श्राइवर, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ चाइल्ड हेल्थ एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इन बेथेस्डा की राजेश्वरी सुंदरम का कहना है कि यदि इस परिणाम की पुष्टि हो जाती है, तो प्रजनन विशेषज्ञ गर्भधारण प्राप्त करने के बारे में परामर्श करते समय जोड़ों के वजन की स्थिति को ध्यान में रख सकते हैं.
सुंदरम और उनकी टीम ने गर्भावस्था और बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) वजन और ऊंचाई का अनुपात, के बीच के रिश्ते पर ध्यान केंद्रित किया। 18.5 और 24.9 के बीच बीएमआई एक स्वस्थ वजन माना जाता है, जबकि 25 से 29.9 अधिक वजन वाले हैं, 30 या उससे अधिक थोड़े मोटे है और 40 या उससे अधिक वाले को अस्वस्थ्य मोटापे के रूप में जाना जाता है। शोधकर्ताओं ने व्यक्तियों को दो उपसमूहों में वर्गीकृत किया: वर्ग 1 में बीएमआई 30 से 34.9, और मोटापे की दूसरी श्रेणी में , 35 या इससे अधिक बीएमआई । इसके बाद अध्ययन दल ने गणना की कि मोटापे से ग्रस्त वर्ग दुसरे समूह में जोड़े अपने सामान्य वजन के समकक्षों की तुलना में गर्भावस्था को प्राप्त करने के लिए 55 प्रतिशत अधिक समय लेते हैं.

LEAVE A REPLY