ओवर ईटिंग से ऐसे बचें

0
31

जीने के लिए खाना जरूरी है और यह बात तो सभी अच्छी तरह से जानते ही हैं। कुछ लोगों को कम भूख लगती है और कुछ लोगों को बहुत ज्यादा भूख लगती है। भूख लगना एक सामान्य प्रक्रिया है लेकिन कुछ लोग ओवरईटिंग का भी शिकार होते हैं। ऐसे लोग जरुरत से ज्यादा खाने लगते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसी मजेदार बाते बताएँगे जो ओवरईटिंग के लिए जिम्मेदार तो है लेकिन आपका कभी इस तरफ ध्यान ही नहीं गया होगा।

आप किसी होटल में अपने दोस्तों के साथ आराम से बैठकर ड्रिंक कर रहे हो और अचानक से आपके ग्रुप से कोई कुछ खाने का आर्डर दे देता है। आपने देखा होगा कि आर्डर देने से पहले आपको भूख नहीं थी लेकिन जैसे ही खाना टेबल पर लगता है आप खाने लग जाते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि हम अपने आस पास के वातावरण के साथ चलना चाहते है और जैसा वो करते हैं वैसा ही हम भी कर जाते हैं। अगर आप अकेले भी बैठे हो और आस पास की टेबल्स पर लोग खाना खा रहे हों तो भी आप उनको मैच करने के लिए खाने लगेंगे।

अगर आपको बड़ी प्लेट में खाना दिया जाये तो इस बात के पूरे चांस हैं कि आप उस पूरी प्लेट को खत्म करने की कोशिश करेंगे चाहे आपका पेट भर ही क्यों न जाए। वह सब आंखों का खेल है जो आपके ऊपर असर दिखाता है। बड़ी प्लेट में खाना भी ज्यादा आता है लेकिन वो हमें कम दिखाई देता है। सबसे बड़ी बात है कि जब हमें बड़ी प्लेट में खाना परोसा जाता है तो हम रोजाना की मात्रा में 16 प्रतिशत तक अधिक खाना खा जाते हैं।

खुशी, उत्तेजना और प्यार जैसी सकारात्मक भावनाएं भी आपकी भूख बड़ा सकती है। जब जिंदगी आसान हो और अच्छे से गुजर रही होती है तो ऐसे वक्त में लोग अपने कैलोरी की चिंता छोड़ देते हैं और जो मन आये खाने लगते हैं। अमूमन ऐसा लोग जरुरत से ज्यादा भी खाते हैं।

LEAVE A REPLY