ट्रम्प प्रशासन: भारत में महिलाए असुरक्षित

0
66

नई दिल्ली
दुष्‍कर्म की बढ़ती घटनाएं भारत की वैश्विक स्‍तर पर छवि खराब कर रही हैं। अमेरिका ने भी इसको लेकर चिंता जताई है और इसके साथ ही ट्रंप प्रशासन ने एक नई ट्रैवेल एडवाइजरी भी जारी कर दी है जिसमें भारत आने वाली महिला पर्यटकों को सतर्क रहने के लिए कहा गया है। अमेरिका की तरफ से यह नई ट्रैवेल एडवाजरी 10 जनवरी को जारी की गई है, जिसमें भारत के साथ पाकिस्‍तान का भी जिक्र किया गया है। एक से चार लेवल की इस एडवाइजरी में जहां भारत को दूसरे नंबर पर रखा गया है तो वहीं पाकिस्तान को तीसरे नबंर पर रखा गया है। अपनी ट्रैवल एडवाजरी में भारत को दूसरे नंबर पर रखते हुए अमेरिका ने अपने नागरिकों से कहा है कि भारत की यात्रा में थोड़ा संभलकर रहें और जम्मू-कश्मीर के अलावा लेह की यात्रा ना करें। साथ ही भारत-पाकिस्तान सीमा के 10 मील के दायरे में भी ना जाएं। अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने यह एडवायजरी भारत में अपराध और आतंकवाद को ध्यान में रखते हुए जारी की है। इसमें कहा गया है कि आतंकी और हथियारबंद संगठन पूर्व और मध्य भारत में सक्रिय हैं और खास तौर से ग्रामीण इलाकों में एडवाजरी में आगे कहा गया है कि भारतीय अधिकारी भारत में दुष्कर्म को तेजी से बढ़ता अपराध बताते हैं।
एक हिंसक अपराध मसलन यौन शोषण अक्सर पर्यटक स्थलों पर देखा गया है। वहीं आतंकी हमले को लेकर कहा गया है कि आतंकी बिना किसी चेतावनी के पर्यटक स्थलों, मार्केट, शॉपिंग मॉल्स को निशाना बना सकते हैं। 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली की सड़कों पर एक गैंगरेप हुआ था और इस गैंगरेप ने देश के मन में मौजूद आंदोलन की चिंगारी को आग बनाने का काम किया था। 16 दिसंबर की तारीख को एक तरह से देश में महिलाओं के खिलाफ होने वाली आपराधिक घटनाओं की राष्ट्रीय समीक्षा का दिन बना दिया गया है। इस वीभत्‍स घटना के बाद कानून में कई कड़े बदलाव भी किए गए, मगर दुष्‍कर्म की घटनाएं बदस्‍तूर जारी हैं। एडवाइजरी में पाकिस्‍तान को लेवल 3 पर रखा गया है। अमेरिका ने अपने नागरिकों के लिए पाकिस्तान जाना एक खतरा भरा कदम बताया है। आपको बता दें कि हाल ही के दिनों में जिस तरह से पाकिस्तान के प्रति अमेरिका का सख्त रुख सामने आया है, इस बीच ट्रैवल एडवाइज़री उसके लिए बड़ी चिंता का विषय है। पिछले दिनों अमेरिका ने लगातार कार्रवाई करते हुए पाकिस्‍तान को दी जाने वाली सभी तरह की सैन्‍य और सुरक्षा मदद पर रोक लगा दी है।
हालांकि पाकिस्‍तान ने भी पलटवार करते हुए अमेरिका के साथ सभी खुफिया और सुरक्षा सहयोग को स्‍थगित कर दिया है।
अमेरिका ने अपने नागरिकों के लिए बुधवार को नई यात्रा एडवाइजरी जारी की है जिसमें भारत का नाम भी शामिल किया गया है। भारत को दूसरे और पाकिस्तान को तीसरे स्थान पर रखा गया है। जबकि चौथे स्थान पर अफगानिस्तान जैसे देश हैं। एडवाइजरी जारी करते हुए ये कहा गया है भारत में यात्रा करते समय थोड़ा सावधानी रखना है जबकि पाकिस्तान जाने के बारे में दोबारा सोचने की सलाह दी गई है। वहीं अफगानिस्तान जैसे देश के लिए यात्रा न करने की सलाह दी गई है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि हर देश की अपनी ट्रैवल एडवाइजरी होती है जोकि पुराने नियमों से बदली जाती है। इस तरह के बदलावों से यूएस नागरिकों को दुनिया भर के देशों के बारे में जानकारी दी जाती है जिससे वह अपनी सुरक्षा को देखते हुए यात्रा करें। भारत को अपनी एडवाइजरी में दूसरे नंबर पर रखने के मामले में यूएस विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत में अपराध और आतंकवाद बहुत ज्यादा है। एडवाइजरी में कहा गया है कि अमेरिकी नागरिकों को जम्मू-कश्मीर की यात्रा नहीं करनी है। एडवाइजरी के मुताबिक यूएस नागरिकों को भारत-पाकिस्तान बॉर्डर के 10 मील के क्षेत्र में नहीं जाना है। क्योंकि वहां दोनों देशों की सेनाओं के बीच गतिरोध रहता है। यूएस विदेश मंत्रालय ने साफ किया कि वह हर देश के लिए अलग से एडवाइजरी जारी करेगा जिसमें स्पेशल लोकेशन्स के लिए अलग से बताया जायेगा। न्यू इंडिया ट्रैवल एडवाइजरी में कहा गया है कि भारतीय अधिकारियों की रिपोर्ट में पता चला है कि भारत में सबसे तेजी से बढ़ने वाला अपराध ‘रेप’ है। पूर्वी क्षेत्र में आतंकवाद फैला हुआ है। आतंकवादी बिना किसी चेतावनी के हमला कर सकते हैं और टूरिस्ट को निशाना बना सकते हैं। वहीं पाकिस्तान पर जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि अगर आप पाकिस्तान जाना चाहते हैं तो एक बार फिर से विचार कर लें। क्योंकि पाकिस्तान में सबसे ज्यादा आतंकवाद फैला हुआ है। यूएस नागरिकों को बलूचिस्तान जाने के लिए भी मना किया गया है। नागरिकों से कहा गया कि वह पाक अधिकृत कश्मीर में भी न जाएं क्योंकि यह सेंसटिव एरिया है जहां अक्सर गोलीबारी होती रहती है। पिछले 6 महीने में पाकिस्तान में 40 आतंकी हमले हुए हैं जिसमें 225 लोगों की मौत हुई और 475 घायल हुए। इनमें बहुत से हमले बलूचिस्तान, केपीके और फाटा में हुए।
– इसमें सबसे कम खतरा होता है। सिर्फ अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर सख्त जांच हो सकती है।
– इसमें सुरक्षा का पैमाना बढ़ जाता है। जिस देश को इस लेवल में रखा जाता है, वहां यात्रा करते हुए सावधानी बरतने को कहा जाता है। भारत को इसी लेवल में रखा गया है।
– इस लेवल में किसी देश को रखने का मतलब होता है कि नागरिक आपातकालीन स्थिति में उस देश की यात्रा ना करें। ऐसा करना बेहद जोखिम भरा हो सकता है। पाकिस्‍तान को इसी लेवल में रखा गया है।
– इस लेवल में जिस देश को रखा जाता है, उसका मतलब होता है कि वहां की यात्रा बिल्‍कुल ना करें। नागरिकों को जान का खतरा हो सकता है।

LEAVE A REPLY