विराट में क्लास के साथ-साथ आक्रामकता भी है : ग्रीम पोलाक

0
29

सेंचुरियन। साउथ अफ्रीका के दिग्गज बल्लेबाज ग्रीम पोलाक मौजूदा भारतीय टीम से खासे प्रभावित हैं। उनका मानना है कि पहला मैच केप टाउन में गंवाने वाली भारतीय टीम को अगर सीरीज में वापसी करनी है, तो उसके कप्तान विराट कोहली को अटैकिंग गेम खेलना होगा। कोहली में वह एक्स फैक्टर है, जिसके बूते वह अपने हक में नतीजे पा सकते हैं। ब्रेडमैन की निगाह में एक बैट्समैन के तौर पर बहुत ऊंचा मुकाम रखने वाले ग्रीम पोलाक कैंसर से उबरे हैं और 73 की उम्र में भी क्रिकेट में उनकी दिलचस्पी लगातार बनी हुई है। भारतीय टीम को केप टाउन में खेले गए पहले टेस्ट में 72 रन से करारी हार झेलनी पड़ी थी। सीरीज का दूसरा टेस्ट मैच सेंचुरियन में शनिवार से शुरू होगा। पोलाक ने कहा, मैं 1992 से यहां आ रही भारतीय टीमों का खेल देख रहा हूं। मौजूदा टीम से बहुत प्रभावित हुआ हूं। केप टाउन टेस्ट में टीम ने जिस तरह फाइटबैक किया, वह लाजवाब था। यह हार्दिक पंड्या नाम का लडक़ा तो बड़ी खोज है। वह हरेक गेंद पर लड़ा। अगर कोहली दूसरी पारी में कुछ ओवर क्रीज पर टिक जाते, तो नतीजा कुछ और भी हो सकता था। उन्होंने कहा कि वह तीसरा मैच देखने जाएंगे। साउथ अफ्रीकी बल्लेबाज ने कहा, मैं तीसरा टेस्ट मैच देखने वांडरर्स जाऊंगा। कम से कम तीन दिन तो देखूंगा ही। यह सीरीज बहुत जोरदार बीतने वाली है। भारत और साउथ अफ्रीका सही मायनों में दुनिया की नंबर 1 और 2 टीमें हैं। पोलाक ने कहा, विराट में दबदबा बनाने का वही एक्स फैक्टर है, जो दिग्गज सचिन तेंडुलकर में था। मुझे इस तरह अटैकिंग खेल भाता है। विराट को इसी खेल का प्रदर्शन करना है। सचिन में क्लास था। विराट में क्लास के साथ-साथ आक्रामकता भी है। इससे उनकी बैटिंग ज्यादा प्रभावी बनती है लेकिन विराट को स्टीव स्मिथ की तरह निरंतर बढिय़ा करना होगा। साउथ अफ्रीका के पूर्व क्रिकेटर पोलाक ने कहा, भारतीय बल्लेबाजों को थोड़े और साहस का परिचय देना होगा। सेंचुरियन की पिच पर बांउस होगा लेकिन रन बनाने के मौके भी होंगे। तेजी से रन बनेंगे यहां। जैसा मैंने पहले ही कहा, बल्लेबाज उम्दा होगा, तो पिच बहुत मायने नहीं रखती। पोलाक ने कहा, मुझे मालूम था कि हमारे पेस बोलर्स विराट को टारगेट करेंगे। भारतीय कप्तान का नाम स्टीव स्मिथ के साथ एक स्वर में लिया जाता है। जैसे स्मिथ ने अकेले दम इंग्लैंड को पहले एशेज टेस्ट में तबाह कर दिया, विराट को भी कुछ वैसा ही सेंचुरियन या वांडरर्स में करना होगा। यह सही है कि यहां की पिचें तेज और बाउंसी हैं लेकिन एक महान बल्लेबाज ऐसे मुश्किल हालात में भी रन बनाएगा।

LEAVE A REPLY