राजस्थान उपचुनाव : राज्य में पहली बार अपनाई जाएगी मैंडेटरी वेरीफिकेशन पद्धति

0
94

जयपुर
राज्य में अलवर और अजमेर में लोकसभा व मांडलगढ़ में हुए विधानसभा उप चुनाव की मतगणना की तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। गुरुवार सुबह आठ बजे से जिला मुख्यालयों पर आयोग द्वारा अनुमोदित केंद्रों पर मतगणना शुरू हो जाएगी। राज्य में पहली बार मैंडेटरी वेरीफिकेशन पद्धति के जरिये मतगणना की जाएगी। मुख्य निर्वाचन अधिकारी अश्विनी भगत ने बताया कि शांतिपूर्ण मतदान के बाद मतगणना में भी पूर्ण निष्पक्षता बनी रहे, इसके लिए भारत निर्वाचन आयोग की ओर से अपनाई जा चुकी मैंडेटरी वेरीफिकेशन पद्धति को लागू किया जाएगा। इसमें संपूर्ण मतगणना के बाद प्रत्येक विधानसभा के मतदान केंद्रों से रैंडमली एक-एक वीवीपैट का चयन कर उसकी पर्चियों की गणना कर, ईवीएम से प्राप्त मतों से मिलान किया जाएगा। रिटर्निंग ऑफिसर-पर्यवेक्षकों की निगरानी और उम्मीदवार या उनके एजेंटों के समक्ष अलग कक्ष में वीवीपैट मशीन से निकली पर्चियों की मतगणना और मिलान होगा।
गुजरात और हिमाचल के चुनावों में भी यह प्रयोग किया जा चुका है। राजस्थान के किसी भी लोकसभा या विधानसभा चुनावों में यह पद्धति पहली बार अपनाई जा रही है। भगत ने बताया कि संबंधित क्षेत्रों के जिला मुख्यालयों पर सुबह 8 बजे मतगणना शुरू होगी। मतगणना के लिए संबंधित जिलों में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। मतगणना केन्द्र पर केवल पासधारक ही प्रवेश कर सकेंगे। भगत ने बताया कि अलवर संसदीय क्षेत्र के लिए बाबू शोभाराम राजकीय कला महाविद्यालय, अलवर में मतगणना करवाई जाएगी।
अलवर निर्वाचन क्षेत्र में तिजारा में 25 राउंड में, किशनगढ़ में 20, मंडावर में 24, बहरोड़ और अलवर ग्रामीण में 19, अलवर शहर और रामगढ़ में 22 और राजगढ़-लक्ष्मणगढ़ में 21 राउंड में मतगणना करवाई जाएगी। अजमेर संसदीय क्षेत्र के लिए राजकीय पॉलिटेक्निक महाविद्यालय, अजमेर में मतगणना करवाई जाएगी। उन्होंने बताया कि अजमेर निर्वाचन क्षेत्र में किशनगढ़ में 34 राउंड में, पुष्कर में 20, अजमेर उत्तर में 24, अजमेर दक्षिण में 23, नसीराबाद में 29, मसूदा में 24, केकड़ी में 34 और दूदू में 23 राउंड में मतगणना करवाई जाएगी। भगत ने बताया कि मांडलगढ़ विधानसभा क्षेत्र के लिए राजकीय पॉलिटेक्निक महाविद्यालय, तिलक नगर, भीलवाड़ा में मतगणना करवाई जाएगी। उन्होंने बताया कि मांडलगढ़ में 21 राउंड में मतगणना करवाई जाएगी। मतगणना में सबसे कम समय जहां मांडलगढ़ लेगा, वहीं 23 उम्मीदवार होने के कारण सबसे ज्यादा अजमेर संसदीय क्षेत्र में लगने की संभावना है।

LEAVE A REPLY