सूफियाना अदांज में ईश्वर की अराधना

0
25

जोधपुर। वल्र्ड सेक्रेट स्पिरिट फेस्टिवल के सातवें संस्करण के तीसरे दिन शनिवार को मेहरानगढ़ दुर्ग की तलहटी में स्थित जसवंत थड़ा पर तुर्की के कलाकारों ने सूफियाना अंदाज में अध्यात्म के सुर बिखरे।
उनकी ईश्वर की अराधना में वहां मौजूद लोग भाव विभोर होकर झुमते नजर आए। जसवंतथड़ा के संगमरमरी सीढियों के मंच पर पौ फटते ही तुर्की के कलाकारों ने सूफियाना अंदाज में हेरौन टैबौल ऑन द नए की प्रस्तुति से इबादत के सुर बहाए। सूर्यनगरी में एक तरफ सूर्योदय हो रहा था तो दूसरी तरफ संगीत की स्वर लहरियों के बीच ईश्वर की आराधना का अनूठा संगम हो रहा था। उसके बाद चौखेलाव महल में अर्मेनिया के लोक कलाकारों ने प्रस्तुति देकर लोगों दिल मोह लिया। किराणा घराने के शास्त्रीय नायक अरशद अली खान ने सुफियाना अंदाज में स्वर लहरिया बिखेरी। उनके मायने समझ सभी एक धारा में बहने लग गए और मंत्रमुगध हो गए षाम को रिदम डिवाइन 11 में कलाकारों की खासस प्रस्तुती होगी। इससे पूर्व शुक्रवार को लंगा मंगलियार कलाकारों ने वर्कशॉप के दौरान म्हारी सोने की बीठी, मस्त कलंदर जैसे गीत बचपन की सुरीली जबान में पेश किया था। यहां पर अरीना वफादारी तथा ईरान से आए कलाकारों ने ईरानी सूफी परंपरा की कविताओं की प्रस्तुति दी। वहीं शृंगार चौक में इथोपिया के जेवदितू योहंस और उनके साथियों ने अजमेरी कविता तथा नृत्य पेश किया था।

LEAVE A REPLY