सरकार नहीं चाहती जोधपुर में आईपीएल मैच

0
65

पूर्व की कांग्रेस सरकार ने 25 करोड़ खर्च कर सुविधाएं जुटाई, भाजपा ने आते ही पानी फेर दिया, अब जेडीए बिगड़े आऊट फील्ड और टर्फ विकेट तैयार कर ले तो ही जोधपुर कर सकता है दावेदारी
मुकेश दत्त शर्मा
जोधपुर। राजस्थान के दूसरे बड़े शहर जोधपुर के पास उत्तर भारत का सर्वश्रेष्ठ बरकतुल्लाह स्टेडियम की धरोहर मौजूद है। प्रदेश में जयपुर के एसएमएस स्टेडियम के बाद जोधपुर का ये स्टेडियम दिन-रात के मैचों की सुविधा वाला है। इस स्टेडियम में ये बदलाव आईपीएल के कमीश्नर रहे और पूर्व की कांग्रेस सरकार के केंद्रीय मंत्री राजीव शुक्ला की बताई योजना के अनुरूप 2011-12 में हुआ था।
उस समय अपने दौरे के बाद उन्होंने यहां फ्लड लाइट लगाने की आवश्यकता बताते हुए आऊट फील्ड व विकेट तैयार करने के लिए कहा था। इसके बाद तत्कालीन जेडीए चेयरमैन राजेंद्रसिंह सोलंकी ने तब 25 करोड़ रुपए खर्च कर स्टेडियम को आईपीएल ही नहीं वन-डे इंटरनेशनल मैचों के लायक बनाया था। तब टर्फ विकेट व आऊट फील्ड बीसीसीआई की पिच समिति के सदस्य तापोष चेटर्जी व आरसीए की ओर से राज्य क्रीड़ा परिषद के क्रिकेट कोट व फील्ड निर्माण विशेषज्ञ अशोक जोशी की देखरेख में तैयार किया गया और दो साल तक इसमें प्रवेश पर ही रोक लगा दी गई। लेकिन तब तक राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन पर ही रोक लग गई थी। तो पांच साल तक यहां आईपीएल तो दूर कोई मैच नहीं हुआ। ना ही इस सरकार की ओर से ऐसे कोई कदम उठाए गए।
सरकार ने काइट फेस्टिवल, लोकल टूर्नामेंट व इवेंट के लिए खोल दिया स्टेडियम
जोधपुर की इस धरोहर को भी जैसे नजर लग गई। सरकार राज्य की क्या बदली जेडीए ने अपनी धरोहर को ही लावारिस छोड़ते हुए यहां पतंगबाजी फेस्टिवल, लोकल क्रिकेट, भाजपा क्रिकेट कप, खेलो इंडिया जैसे इवेंट के लिए खोल डाला। ये ही नहीं विकेट व फील्ड मेंटेनेंस का ठेका ही किसी को नहीं दिया। वर्तमान में ये ही आईपीएल के कदम जोधपुर में रखने में बाधा बने हुए है। हालांकि वर्तमान में भी विशेषज्ञों का मानना है कि विकेट व आऊट फील्ड तो 20 दिन में ही सुधारे जा सकते है तो भला जेडीए अपनी ओर से पहल क्यों नहीं कर रहा है। खेल मंत्री गजेंद्रसिंह खींवसर व राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त जेडीए चेयरमैन महेन्द्रसिंह राठौड़ क्यों नहीं जोधपुर में आईपीएल का एक मैच करवाने की पहल कर रहे हैं? जबकि जोधपुर की क्रिकेट प्रेमी जनता आईपीएल का सपना देख रही है।
कमाई की दृष्टि से सर्वाधिक सफल साबित हो सकता है जोधपुर का आईपीएल मैच
ये मानकर चलिए कि जोधपुर में आईपीएल का एक मैच भी देश में किसी भी आईपीएल मैच की तुलना में सफल व कमाऊ सिद्ध हो सकता है। जिस स्टेडियम की दर्शक भराव क्षमता 45 हजार के करीब हो उस स्टेडियम में मैच के दौरान खचाखच भरे रहने का रिकार्ड हो, जो दो वनडे इंटरनेशनल मैच यहां हुए उसमें जोधपुर जिला क्रिकेट एसोसिएशन रातों रात करोड़पति बन गई हो, ऐसे मैदान से परहेज करना आरसीए व सरकार पर अनसुलझी पहेली की तरह यहां के क्रिकेट प्रेमियों की आंखों में खटक रहा है। सही मायने में सरकार व जेडीए आईपीएल करवाना कोई बड़ा काम नहीं है। सरकार चाहे तो जेडीए व आरसीए के बीच मैच की रॉयल्टी का बंटवारा करवाकर भी यहां मैच करवा सकती है।

LEAVE A REPLY