सरकार की इस साल अक्टूबर तक गैस एक्सचेंज मार्केट शुरू करने की योजना

0
11

नयी दिल्ली : देश में अब जल्द ही नेचुरल गैस की खरीद-फरोख्त के लिए गैस एक्सचेंज मार्केट की शुरुआत की जायेगी. सरकार ने इस साल अक्तूबर तक नेचुरल गैस की खरीद-फरोख्त के लिए एक बड़ा एक्सचेंज (गैस एक्सचेंज मार्केट) शुरू करने की योजना बनायी है. इससे भारतीय गैस का एक मानक मूल्य तय हो सकेगा और इसकी खपत को बढ़ावा मिल सकेगा. तेल एवं प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड ( पीएनजीआरबी ) ने इसके लिए एक सलाहकार की नियुक्ति के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं, जो भारतीय गैस विनिमय बाजार की स्थापना तथा उसकी नियामकीय रूपरेखा आदि के बारे में सलाह देगा. पीएनजीआरबी की निविदा में कहा गया है कि देश में प्राकृतिक गैस की खपत को बढ़ावा देने के लिए सरकार एक गैस कारोबार केंद्र अथवा एक्सचेंज स्थापित करने पर विचार कर रही है. वर्तमान में नेचुरल गैस के कई तरह के फाॅर्मूलों पर आधारित मूल्य की बजाय इस एक्सचेंज के जरिये नेचुरल गैस की आपूर्ति बाजार आधारित प्रणाली के तहत हो सकेगी.
फिलहाल, घरेलू स्तर पर उत्पादित गैस का मूल्य सरकार तय करती है. यह दर अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन और रूस में प्रचलित गैस के मूल्यों के आधार पर तय किये जाते हैं, जो गैस के शुद्ध निर्यातक है. इसकी हर छठे माह समीक्षा की जाती है. इस आधार पर गैस का दाम वर्तमान में 3.06 डाॅलर प्रति इकाई (एमएमबीटीयू) है. यह दाम एक अप्रैल से शुरू होकर छह माह के लिए लागू है.वहीं, देश में आयातित एलएनजी का दाम 7.5 डाॅलर प्रति 10 लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट पड़ता है. पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड ने कहा है कि पेट्रलियम मंत्रालय ने उससे कहा है कि वह देश में गैस खरीद-फरोख्त एक्सचेंज की स्थापना और उसके संचालन के लिए जरूरी नियामकीय रूपरेखा तैयार करे.नियामक ने कहा है कि वह इसके लिए सलाहकार फर्म को नियुक्त करना चाहती है, जो इसके लिए विभिन्न जरूरतों के वास्ते विस्तृत अध्ययन करेगा. इसके लिए पीएनजीआरबी अमेरिका, ब्रिटेन और आॅस्ट्रेलिया का दौरा करेगा, जहां इस प्रकार के गैस एक्सचेंज सफलता के साथ काम कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY