धोनी के मास्टर प्लान के सामने बेबस हो गई किंग्स इलेवन पंजाब

0
32

पुणे। रविवार को महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन, पुणे के मैदान पर चेन्नई सुपर किंग्स के सामने किंग्स इलेवन पंजाब ने जीत के लिए 154 रनों का लक्ष्य रखा था। पंजाब की टीम को प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ करने के लिए चेन्नई को 100 रनों से कम पर रोकना था। गेंद स्विंग हो रही थी और चेन्नै के तीन बल्लेबाज पविलियन लौट चुके थे। ऐसे में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने बल्लेबाजी क्रम में परिवर्तन करते हुए हरभजन सिंह और दीपक चाहर को ऊपर भेजा। धोनी के इस फैसले से कई जानकार हैरान थे लेकिन धोनी ने बताया कि आखिर इसके पीछे उनकी क्या सोच थी। धोनी ने कहा, गेंद स्विंग हो रही थी। इस तरह के मैच में जब गेंद बहुत स्विंग हो रही हो तो आप कई विकेट लेना चाहते हैं। तो हरभजन और चाहर को हड़बड़ी पैदा करने के मकसद से भेजा गया था। उन्होंने कहा, जब प्रॉपर बल्लेबाज क्रीज पर होते हैं तो गेंदबाज निरंतर अच्छी गेंदबाजी करते हैं लेकिन जैसे ही लोअर ऑर्डर के बल्लेबाज आते हैं वे बाउंसर, ऑफ कटर जैसे प्रयोग करने लग जाते हैं। इसी वजह से मैच में बल्लेबाजी क्रम में बदलाव किया गया।
धोनी का यह फैसला सही साबित हुआ। हरभजन सिंह हालांकि 22 गेंदों पर 19 रन बनाकर आउट हो गए लेकिन दीपक चाहर ने 20 गेंदों पर तेज 39 रन बनाकर अपनी टीम के लिए लक्ष्य आसान कर दिया। आखिर में रैना 61 रन बनाकर नाबाद रहे। यह उनके आईपीएल करियर की 35वीं हाफ सेंचुरी थी। धोनी ने आखिरी ओवर की पहली गेंद पर छक्का लगाकर अपनी टीम को पांच विकेट से जीत दिला दी। धोनी ने कहा कि उन्होंने रणनीति के हिसाब से छक्का नहीं लगाया। चूंकि सभी खिलाड़ी आगे आकर फील्डिंग कर रहे थे इसलिए उन्होंने इनफील्ड के ऊपर से शॉट खेला जो सीमा रेखा के पार चला गया। आईपीएल के लीग स्टेज के मैच अब समाप्त हो चुके हैं। चेन्नई सुपर किंग्स पॉइंट्स टेबल में दूसरे पायदान पर रही। मंगलवार को वह मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले जाने वाले पहले क्वॉलिफायर में सनराइजर्स हैदराबाद से भिड़ेगी। इस मैच को जीतने वाली टीम सीधा रविवार को मुंबई में होने वाले फाइनल में पहुंच जाएगी। वहीं हारने वाली टीम बुधवार को होने वाले कोलकाता में खेले जाने वाले एलिमिनेटर में जीतने वाली टीम से दूसरे क्वॉलिफायर में खेलेगी। यह मैच भी शुक्रवार को कोलकाता के ईडन गार्डंस में खेला जाएगा।

LEAVE A REPLY