शहादत को सलाम करने लाखों लोगों ने बनाई मानव श्रृंखला

0
75

पाक सीमा के समांतर करीब सात सौ किमी लंबी मानव श्रृंखला बनाई, मुख्यमंत्री ने भी किया शहीदों को सलाम
जोधपुर। पाकिस्तान की सीमा के समानान्तर चलने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 68 पर शहादत को सलाम करने के लिए लाखों लोगों ने मानव श्रृंखला बनाकर एक नया रिकॉर्ड कायम किया। सीमा से सटे बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर व श्रीगंगानगर जिलों में लाखों लोगों ने सात सौ किलोमीटर लम्बी मानव श्रृंखला बनाई। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने जैसलमेर में इस मानव श्रृंखला में शामिल होकर शहीदों की शहादत को सलाम किया। बाड़मेर से गंगानगर तक जोश व उत्साह से लबरेज हाथों में तिरंगा लिए और देशभक्ति के नारे लगाते हुए खड़े हुए। यह नजारा वाकई देखने लायक था। सुबह 11 से दोपहर एक बजे के बीच लाखों लोगों ने एक साथ मानव श्रृंखला बना कर नया रिकॉर्ड बनाने मे कामयाबी हासिल की।
पहली बार राज्य सरकार की तरफ से इस बार स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पूर्व यह अनूठा आयोजन किया गया। सुबह से बाडमेर, जैसलमेर बीकानेर व गंगानगर जिले में बार्डर के समांतार नेशनल हाईवे 68 पर लोग पहुंचना आरंभ हो गए थे। प्रदेशभर से वहां पहुंचे लोग हाथों में तिरंग, झंड़े और गुब्बारे लिए और देश भक्ति के गीत गाते लोग मानव श्रृंखला बनाने को लालायित नजर आए। लोग सडक़ों पर रंगोली बनाते नजर आए तो पेंट किए शर्ट व कैप लगाए लडक़े व लड़कियों का जोश देखने लायक था। वहीं स्कूली बच्चों के उत्साह को देशभक्ति की गीतों ने बढा दिए थे। कहीं-कहीं परंपरागत वेशभूषा में लोग इस मानव श्रृंखला में शामिल होकर शहीदों की शहादत को सलाम करते नजर आए। इसके लिए सीमावर्ती चार जिलों के साथ ही इनसे सटे अन्य जिलों के कलेक्टरों की मॉनीटङ्क्षरग में एक ही घड़ी व एक ही कड़ी में सात सौ किलोमीटर लम्बी मानव श्रृंखला बनाई गई।
मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि
शहादत को सलाम कार्यक्रम एक साथ सुबह 11 बजे शुरू हुआ, जो दोपहर में एक बजे पूरे राज्य में एक साथ राष्ट्रगान के साथ समाप्त हुआ। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का पहले इस क्षण को यादगार बनाने के लिए हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा करने का कार्यक्रम था लेकिन वे सीधे जैसलमेर पहुंच गई और वहां उन्होंने सेना की ओर से शहीदों को सलाम कार्यक्रम में शरीक होकर शहीदों को पुष्पचक्र चढ़ाकर नमन किया। साथ ही पूर्व सैनिकों की विधवाओं को सम्मानित भी किया। बाद मे ंखुद भी मानव श्रृंखला में शामिल हुई।
इस ऐतिहासिक मानव श्रृंखला में आम आदमी ही नहीं बल्कि सेना, वायुसेना, बीएसएफ सहित तमाम अद्र्वसैनिक बल के अधिकारी व जवान भी शामिल हुए। मानव श्रृंखला के दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग 68 बाड़मेर से जैसलमेर, वाया बीकानेर होते हुए गंगानगर तक 700 किलोमीटर लंबा एनएच 68 सोमवार को 5 घंटे बंद रहा। मानव श्रृंखला कार्यक्रम के मद्देनजर एनएच 68 का बाड़मेर से गंगानगर तक का ट्रैफिक डायवर्ट किया गया। दोपहर करीब दो बजे के बाद हाइवे पर यातायात का संचालन शुरू हो सका।

LEAVE A REPLY