कांग्रेस की पहली सूची दशहरा से पहले आने की उम्मीद

0
10

रोहित पारीक
जोधपुर। चुनावी समर में उतरी कांग्रेस ने सत्ता तक पहुंचने के लिए प्रत्याशियों की पहली सूची तैयार कर ली है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस प्रत्याशियों की पहली सूची दशहरा से पहले घोषित कर देगी। माना जा रहा है कि इस सूची में पार्टी के बड़े नेताओं के साथ ही उन नेताओं को शामिल किय गया है, जहां पार्टी विवादों पर काबू कर चुकी है।
चुनाव की तारीख का ऐलान होने के साथ ही कांग्रेस पूरी तरह से एक्शन मोड में है। पार्टी स्तर पर टिकट को लेकर जारी मारामारी के बीच 50 सीटों पर नाम फाइनल हो गए है। प्रदेश प्रभारी महासचिव की ओर से भेजे नामों पर स्क्रीनिंग कमेटी ने अंतिम रूप देते हुए सूची फाइनल की गई है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि इस सूची में मौजूदा विधायकों की सीटों के साथ ही 29 दूसरी सीटें भी हैं। दशहरे से पहले इस सूची पर कांग्रेस हाईकमान राहुल गांधी की मुहर लग सकती है। इसके बाद इसे सार्वजनिक कर दिया जाएगा। हर सीट पर दो से तीन नाम थे, जिन पर मंथन के बाद सूची को अंतिम रूप दिया गया है। हालांकि, तैयार की गई सूची में 5-6 सीटों पर विवाद है, जिस पर पहले चर्चा की जाएगी। इसके बाद पार्टी स्तर पर शेष 150 सीटों के नामों पर मंथन किया जाएगा। इन सीटों पर ही दावेदारों की संख्या सर्वाधिक है। यही वजह है कि पार्टी ने इन सीटों पर फैसला बाद में रखा है, जिससे हर सीट पर पर्याप्त समय देकर प्रत्याशी का चयन किया जा सके। हर सीट पर दावेदारों की संख्या अधिक होने के चलते पार्टी काफी सतर्कता बरतते हुए काम कर रही है। क्योंकि, इससे पहले कई बार दावेदारों के बीच विवाद सामने आ चुका है, जिसे देखने के बाद पार्टी इन सीटों पर नामों को अंतिम रूप देने में कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहती है। पार्टी के बड़े नेता भी लगातार बयानों के जरिए दावेदारों को समझाने की कोशिश कर रहे हैं। गौरतलब है कि टिकट की दावेदारी कर रहे लोग लगातार पार्टी के बड़े नेताओं के साथ ही पीसीसी कार्यालय पहुंच रहे हैं। यहां वे अपनी दावेदारी को पुख्ता करने के साथ ही यह भी चेतावनी देते नजर आ रहे हैं कि गलत व्यक्ति को टिकट मिला तो पार्टी अंजाम भुगतेगी।
आसान नहीं हैं टिकट की राह
कांग्रेस में टिकट के दावेदारों को अब प्रदेश कांग्रेस चुनाव समिति यानी पीईसी सदस्यों के चक्कर भी लगाने होंगे। आलाकमान ने तय किया है कि टिकटों के फाइनल में उनकी भी हां रहेगी। राजस्थान में पीईसी के 44 सदस्य हैं। आलाकमान ने पीईसी सदस्यों से 12 अक्टूबर तक राय मांगी है। 12 अक्टूबर में 72 घंटे का समय बचा है। टिकटार्थियों को बहुत मेहनत करनी है पीईसी सदस्यों को मनाने के लिए। स्क्रीनिंग कमेटी ने आलाकमान के निर्देशों को जयपुर में हुई पीईसी की बैठक में रखा था। इस बैठक में उम्मीदवर चयन की प्रक्रिया जल्दी पूरी करने के लिए सभी सदस्यों से सुझाव मांगे गए। सुझाव आने के बाद सदस्यों के नामों, सर्वे रिपोर्ट, प्रभारी सचिवों की रिपोर्ट को टैली किया जाएगा। स्क्रीनिंग कमेटी पीईसी की लिस्ट को सर्वे और प्रभारी सचिवों की रिपोर्ट से मिलान करेगी, वहीं इस लिस्ट में जो भी नाम कॉमन होगा वह फाइनल माना जाएगा। पार्टी सूत्रों के मुताबिक सिंगल नाम और लगातार हारने वाली सीटों पर पहले उम्मीदवारों की घोषणा की जाएगी। पार्टी हाईकमान ने पहली सूची जारी करने के लिए 20 अक्टूबर का लक्ष्य रखा है, वहीं उम्मीदवारों के नाम के साथ पीईसी सदस्यों को उनकी जीत की जिम्मेदारी भी लेनी होगी। पार्टी के नए निर्देशों के बाद पीईसी सदस्यों के घर टिकटार्थियों का जमावड़ा बढ़ गया है। टिकट की रेस में लगे कांग्रेस नेता अब दिल्ली की बजाए पीईसी सदस्यों से संपर्क साधने में जुट गए हैं। हालांकि टिकटार्थियों के लिए ये सरल नहीं होगा। जिन सीटों पर अधिक माथापच्ची है और कई पैनल हैं। उन पर खुद राहुल गांधी के कार्यालय की तरफ से भी जांच की जाएगी। ऑफिस ऑफ राहुल गांधी की रिपोर्ट के बाद ही स्क्रीनिंग कमेटी उन सीटों पर फैसला करेगी। पार्टी में महिला उम्मीदवार के लिए राहुल गांधी ने स्पष्ट रूप से निर्देश दिए हैं। उनका कहना है कि जो महिला जीतने योग्य है उसी को वरीयता दें। हालांकि अंतिम लिस्ट बनाने से पहले पीसीसी चीफ सचिन पायलट और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से चर्चा की जाएगी। इसके बाद लिस्ट को सीईसी के पास भेजा जाएगा। सीईसी की मुहर के बाद ही उम्मीदवारों के नाम जारी किए जाए।

LEAVE A REPLY