जेएनवीयू छात्रसंघ चुनाव का मामला: कुलपति ने देखे वीडियो फुटेज

0
8

जोधपुर। जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव को लेकर दायर आपत्तियों पर 13 अक्टूबर को होने वाली सुनवाई से पूर्व गुरुवार को नवनियुक्त कुलपति प्रो. गुलाबसिंह चौहान ने सुनवाई की। कुलपति प्रो. चौहान ने सुनवाई में मौजूद आपत्ति दर्ज करवाने वाले प्रत्याशियों का पक्ष जाना व मतगणना के दौरान के लिए गए कुछ वीडियो फुटेज भी देखे। अब कुलपति के मौखिक आदेश के बाद 13 अक्टूबर को होने वाला निर्णय 10 दिन बाद लिया जाएगा।
दरअसल अध्यक्ष पद के पराजित एबीवीपी प्रत्याशी मूलसिंह ने तत्कालीन कुलपति के समक्ष अपील दायर कर ग्रीवेंस रिड्रेसल कमेटी की ओर से उसका नामांकन खारिज करने की अनुशंसा पर पुनर्विचार की मांग की थी। साथ ही छात्रसंघ अध्यक्ष सुनील चौधरी की बी.टेक डिग्री में संदिग्ध बताते हुए कई सेमेस्टर में फैल होने के बावजूद महिला अध्ययन केंद्र में प्रवेश देने संबंधी दस्तावेज पेश कर चौधरी का नामांकन रद्द करने की भी मांग की थी। इसके बाद विवि की ग्रीवेंस रिड्रेसल कमेटी ने कुलपति को सौंपी रिपोर्ट में मूलसिंह राठौड़ का नामांकन खारिज करने सिफारिश की थी। इन आपत्तियों पर 13 अक्टूबर को निर्णय आने वाला था लेकिन अब यह दस दिन बाद आएगा। गुरुवार को कुलपति कक्ष में हुई सुनवाई में आपत्ति दर्ज करवाने वाले सभी प्रत्याशी व्यक्तिगत रूप से मौजूद रहे।
उल्लेखनीय है कि जेएनवीयू के छात्रसंघ चुनाव में एनएसयूआइ के सुनील चौधरी को नौ मतों के अंतर से विजेता घोषित किया गया था। इसके बाद मूलसिंह ने करीब 20 बिंदुओं पर आपत्तियां दर्ज करते हुए विवि प्रशासन, मुख्य चुनाव अधिकारी व मतगणना की टीम पर गंभीर आरोप लगाए थे। ग्रीवेंस रिड्रेसल कमेटी ने इन पर सुनवाई की थी। इसके बाद मूलसिंह ने विवि प्रशासन को सुनील चौधरी की बी.टेक डिग्री की वर्ष 2013 से लेकर 2016 की मार्कशीट दी थी। इसमें पांचवें, छठे और सातवें सेमेस्टर की मार्कशीट को संदिग्ध बताया गया। मूलसिंह ने कहा कि 2016 में कुछ विषयों में सुनील के बैक भी आई थी। वर्तमान में एमबीए में प्रवेश भी बगैर वैध दस्तावेजों के आधार पर दे दिया गया।

LEAVE A REPLY